शैल इको मैराथन में आइआटी-बीएचयू का दबदबा

  • December 03, 2019

जासं, वाराणसी : आइआइटी-बीएचयू के छात्रों की टीम अवरेरा ने बंग्लुरु स्थित शैल टेक्टनोलॉजी सेंटर में गतदिनों आयोजित शैल इको मैराथन (इंडिया)-19 में जबर्दस्त प्रदर्शन किया। टीम ने दो श्रेणियों में प्रथम पुरस्कार जीते। संस्थान के निदेशक प्रो. प्रमोद कुमार जैन ने सोमवार को टीम से मुलाकात की और शैल इको मैराथन प्रतियोगिता से प्राप्त 5.5 लाख रुपये का चेक प्रदान किया।

टीम अवरेरा जून 2020 में सिपांग इंटरनेशनल सर्किट, मलेशिया में होने वाली प्रतियोगिता में भारत का प्रतिनिधित्व करेगी। इसके लिए संस्थान निदेशक ने टीम को आवश्यक संसाधन उपलब्ध कराने का आश्वासन दिया। बैंगलोर में आयोजित प्रतियोगिता में संस्थान के छात्रों की ’टीम अवरेरा’ द्वारा बनाई गई इलेक्टिक प्रोटोटाइप कार ने प्रथम स्थान प्राप्त किया। बिजली से चलने वाली इस कार ने एक किलोवॉट/ऑवर की उर्जा से 387.9 किलोमीटर की दूरी की क्षमता का प्रदर्शन कर नया कीर्तिमान स्थापित किया। इसके लिए विजेता टीम को तीन लाख रूपये का चेक देकर सम्मानित किया गया। वहीं, इसी टीम को उच्च तकनीकी नवाचार के ऑफट्रैक अवार्ड ‘टेक्निकल इनोवेशन अवार्ड’ के लिए ढाई लाख रूपये का भी चेक प्रदान किया गया। संस्थान के छात्रों के टीम में पांचवें वर्ष से सोमेश सुनील जायसवाल, चतुर्थ वर्ष से हिंमाशु साहू, सौरभ पटेल, रायला कार्तिक, अभ्युदय वर्मा, रिद्धी घोष, तृतीय वर्ष से तन्मय गोयल, स्नेहल, शशांक कुमार, रिषभ सिंह, अभय अग्रवाल, शुभम यादव शामिल रहे।

टीम के अनुसार जून 2020 में होने वाली प्रतियोगिता के लिए अब एक नई डिजाइन की कार ‘अर्बन कन्सेप्ट व्हीकल’ निर्मित की जाएगी, जो हाइड्रोजन फ्यूल सेल से संचालित होगी। टीम अवरेरा के प्रमुख मेंटर और मैकेनिकल इंजीनियरिंग के अस्सिटेंट प्रोफेसर डा. अमितेश कुमार ने बताया कि शैल इको मैराथन ऐसी प्रतियोगिता है जिसमें उच्च उर्जा कुशल वाहनों का निर्माण और परीक्षण की चुनौती देती है। इसमें सबसे कुशल टीम को विजेता घोषित किया जाता है। टीम मेंटर डा. हीरा लाल प्रामाणिक, डा. श्याम कमल, डा. संदीप घोष और डिजाइन इनोवेशन सेंटर के समन्वयक प्रो. नीरज शर्मा का भी टीम की उपलब्धि में योगदान रहा है।

जासं, वाराणसी : भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, बीएचयू में कैंपस प्लेसमेंट के दूसरे दिन भी छात्र-छात्रओं पर जमकर धनवर्षा हुई। नामी-गिरामी कंपनियों ने छात्रों का लाखों रुपये के पैकेज ऑफर किए। प्लेसमेंट के तहत सोमवार को आइआइटी, बीएचयू स्थित आर्यभट्ट छात्रवास में दिन भर ग्रुप डिस्कशन व साक्षात्कार का दौर चला। 43 कंपनियों ने अपने लिए योग्य उम्मीदवारों का चयन किया। 70 छात्र-छात्रओं को जहां प्री प्लेसमेंट ऑफर के तहत लेटर दिया गया, वहीं 120 को जॉब ऑफर मिला। आइआइटियंस को नौकरी देने के लिए देश-विदेश से नामी कंपनियों ने संस्थान में डेरा डाल रखा है। इस वर्ष 1426 छात्र-छात्रओं का पंजीयन कैंपस प्लेसमेंट के लिए किया गया है। पिछले वर्ष जहां करीब 1000 विद्यार्थियों को नौकरी मिली थी, वहीं इस वर्ष आंकड़ों में सुधार की संभावना जताई जा रही है।

ये कंपनियां रहीं शामिल: सैप लैब्स, डायरेक्ट-आई, फोन-पे, वीमॉक, श्रृब, हार्नेस-एएल, वेस्टर्न डिजिटल, जिलिंगो एसडीई, ईएसएल, इनफेज एनर्जी, एडोब, बाउंस एसडीई, क्लूमियो, जेपी मोर्गन, आप्टम बीडीए, फ्लिप्कार्ट एसडीई, अनएकेडमी एपीएम, सिटी बैंग्लोर, आइबीएम, लेंडिंगकार्ट एनालिस्ट, जगुआर, उड़ान, मंत्र, ड्रीम-11, पेटीएम, एनएक्सपी सेमिकंडक्टर, ओला, स्प्रिंकलर आदि।

शैल इको मैराथन (इंडिया)-19 की विजेता टीम अवरेरा के साथ आइआइटी-बीएचयू के निदेशक प्रो पीके जैन ’ जागरण

’>>इलेक्ट्रो प्रोटोटाइप कार ने पकड़ी रिकार्ड रफ्तार

’>>दो श्रेणियों में टीम ने जीते 5.5 लाख रुपये के इनाम

’>>43 कंपनियों ने दिया ऑफर उच्चतम पैकेज 30 लाख

’>>नामी कंपनियों में नौकरी मिलते ही खिलीं विद्यार्थियों की बांछें

शैल इको मैराथन में आइआटी-बीएचयू का दबदबा
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK