हस्तशिल्प कार्यशाला में निखरा युवाओं का हुनर

  • August 27, 2019

जागरण संवाददाता, पूर्वी दिल्ली : त्रिलोकपुरी 32-33 ब्लॉक स्थित सामुदायिक भवन में एसोसिएशन फॉर डेवलपमेंट और हेलमैन संस्था द्वारा आयोजित चार दिवसीय कौशल विकास कार्यशाला का सोमवार को समापन हो गया। कार्यशाला का विषय ‘हस्तशिल्प वस्तुएं’ था जिसमें युवाओं को हस्तशिल्प वस्तुओं की जानकारी देने के अलावा उन्हें बनाने की विधियां भी बताई गईं।

एसोसिएशन फॉर डेवलपमेंट के अध्यक्ष योगेश कुमार ने बताया कि कार्यशाला का मुख्य उद्देश्य हस्तशिल्प के बारे में समुदाय के युवाओं को ज्ञान देना और जागरूक करना था। कार्यशाला में प्रतिभागियों ने कपड़े और जूट की हस्तनिर्मित वस्तुओं को बनाना सीखा। यह कार्यशाला ‘मानुषी सृजनात्मक संस्थान’ और ‘धरती मां ट्रस्ट’ के सहयोग से आयोजित की गई। जिसमें 35 युवाओं ने हिस्सा लिया।

कार्यशाला के पहले दिन प्रतिभागियों ने कौशल के महत्व और व्यवसाय की तैयारी के बारे में जानकारी प्राप्त की। उन्हें बाजार सर्वेक्षण, कच्चे माल, उत्पाद की प्रवृत्ति, रचनात्मकता, स्थायित्व और ग्राहक की आवश्यकता की समझ के बारे में विस्तार से बताया गया। अन्य तीन दिनों में सभी युवाओं को कागज की वस्तुएं और फैब्रिक वस्तुओं जैसे इयर रिंग्स (झुमके) और चाबी के छल्ले बनाने सिखाए गए। युवाओं ने जूट के थैले और चटाइयां तैयार करना भी सीखा। अंतिम दिन प्रतिभागियों के परिवारों के लिए तैयार वस्तुओं की एक प्रदर्शनी आयोजित की गई।

इस अवसर पर मौजूद लोगों ने प्रदर्शनी की खूब सराहना की। इस मौके पर अर्चना कौल, प्रज्ञा सेठी, अनुराधा कशवाह आदि मौजूद थे।